Advertisement

तीन साल पुराने यौन शोषण केस में आरोपी की नहीं हुई पहचान, Madras High Court ने कहा -व्यवस्थाएं अनुकूल नहीं, जानिए क्या है मामला

Madras high court

मद्रास हाईकोर्ट ने यौन उत्पीड़न से जुड़े मामले को ये कहते हुए रद्द कर दिया कि मामले में आरोपी की पहचान नहीं हुई. इस मामले में आगे कार्यवाही करना 'नारीत्व' का मजाक उड़ाने जैसा होगा.

Written by My Lord Team |Updated : February 4, 2024 12:26 PM IST

मद्रास हाईकोर्ट ने हाल ही में यौन उत्पीड़न का मामला ये कहते हुए रद्द कर दिया कि मामले के तीन साल गुजर जाने पर भी आरोपी की पहचान नहीं हुई है. ऐसे में इस कार्यवाही जारी रखना नारीत्व का मजाक बनाने जैसा होगा. केस की सुनवाई के दौरान महिला को और अधिक शर्मिंदगी उठानी पड़ेगी. कोर्ट ने तमिलनाडु महिला उत्पीड़न निषेध अधिनियम (Tamil Nadu Prohibition of Harassment of Women Act) की धारा 4 के तहत दायर यौन उत्पीड़न के इस मामले को रद्द कर दिया.

गवाही के समन को दी चुनौती

जस्टिस आनंद वेंकटेश की बेंच ने इस मामले की सुनवाई की. इस मामले की स्थितियों पर गौर करते हुए न्यायधीश ने कहा कि कई यौन शोषण के मामले अदालत के सामने आते ही नहीं है. वहीं कुछ पीड़ित महिलाएं हिम्मत करके आगे आई तो ये व्यवस्था इतनी अनुकूल दिखाई नहीं पड़ती है. इस तरह के मामले इतने संवेदनशील होते कि पीड़िता को सुनवाई के दौरान दोहरी शर्मिदगी उठानी पड़ती है. अदालत ने कहा कि शिकायत देने के कारण पीड़िता को यौन शोषण और अदालती सुनवाई के दौरान शर्मिंदगी, की दोहरी मार से गुजरना होता है. इस मामले में जब आरोपी की पहचान नहीं हुई है, साफ है कि वह बच जाएगा. यह अदालत वर्तमान मामले में इस तरह के उपहास को जारी रखने की अनुमति देने के लिए इच्छुक नहीं है. अदालत महिला की याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट कोर्ट, एग्मोर द्वारा जारी गवाह समन को चुनौती दी गई.

क्या है पूरा मामला?

घटना 20 नवंबर, 2020 के सुबह की है, जब महिला (पीड़िता) सुबह की सैर (Morning Walk) पर गई. इसी दौरान एक स्कूटी सवार व्यक्ति ने उसकी छाती को छुआ और वहां से भाग निकला. महिला ने घटनास्थल के नजदीक घर के सीसीटीवी से फुटेज निकाला. इस फुटेज के आधार उसने पुलिस के समक्ष महिला उत्पीड़न निषेध अधिनियम, 2002 की धारा 4 के तहत एफआईआर (FIR) दर्ज करवाई. वहीं, 11 अगस्त, 2023 को मामले में सुनवाई के लिए महिला को निचली अदालत में बुलाया गया. सुबह 10 बजे से लेकर 4:30 बजे तक इंतजार करने के बाद भी कुछ नहीं हुआ और उसे अनावश्यक रूप से इस घटना को याद दिलाने के मजबूर किया गया. वहीं, मामले में अदालत ने रिकार्ड पर मौजूद सबूतों और गवाहों पर गौर करते हुए कहा कि ये सभी साक्ष्य केवल घटना घटित होने को सिद्ध करते हैं. आरोपी की स्पष्ट पहचान करने में ये असफल रहे. फुटेज से भी आरोपी की पहचान कर पाना मुश्किल है.

Also Read

More News

इन मौजूदा हालातों में अदालत की राय थी कि ऐसे में जब आरोपी की पहचान नहीं हुई है तो इस यौन शोषण से जुड़ी घटना को लेकर अपराधिक मुकदमा चलाने का कोई औचित्य नहीं है. अदालत के नजरिए से यह नारीत्व का उपहास होगा. ऐसा कहकर अनुच्छेद 226 के तहत असाधारण क्षेत्राधिकार का प्रयोग करते हुए अदालत ने इस मामले को रद्द करने को इच्छुक थी.

Comments